भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं उसके निकट गया आधी रात को / इवान बूनिन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: इवान बूनिन  » संग्रह: चमकदार आसमानी आभा
»  मैं उसके निकट गया आधी रात को

मैं उसके निकट गया आधी रात को
वह सो रही थी
चाँदनी फैली थी खिड़की पर
और कम्बल चमक रहा था रेशम की तरह

कमर के बल लेटी थी वह
उघड़े उरोज उसके
ढुलके हुए थे दोनों तरफ़

और जीवन
शांत खड़ा था
उसके सपनों में
किसी बरतन में रखे जल की तरह

(1898)

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय