भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं ख़ुद को इस लिए मंज़र पे लाने वाला नहीं / अफ़ज़ल गौहर राव

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं ख़ुद को इस लिए मंज़र पे लाने वाला नहीं
कि आइना मिरी सूरत दिखाने वाला नहीं

तिरे फ़लक का अगर चाँद बुझ गया है तो क्या
दिया ज़मीं पे भी कोई जलाने वाला नहीं

समुंदरों की तरफ़ जा रहा हूँ जलता हुआ
कि मेरी आग को बादल बुझाने वाला नहीं

ये कौन नींद में आकर सिरहाने बैठ गया
मैं अपना ख़्वाब किसी को बताने वाला नहीं

अब इस क़दर भी तकल्लुफ़ से मिल रहे हो क्यूँ
तुम्हारे साथ तो रिश्ता ज़माने वाला नहीं

कमर कमान हुई जा रही यूँ ‘गौहर’
मैं जैसे ख़ुद को दोबारा उठाने वाला नहीं