भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं बज़्म-ए-तसव्वुर में उसे लाए / अनवर शऊर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं बज़्म-ए-तसव्वुर में उसे लाए हुए था
जो साथ न आने की क़सम खाए हुए था

दिल जुर्म-ए-मोहब्बत से कभी रह न सका बाज़
हालांकि बहुत बार सज़ा पाए हुए था

हम चाहते थे कोई सुने बात हमारी
ये शौक़ हमें घर से निकलवाए हुए था

होने न दिया ख़ुद पे मुसल्लत उसे मैं ने
जिस शख़्स को जी जान से अपनाए हुए था

बैठे थे 'शऊर' आज मेरे पास वो गुम-सुम
मैं खोए हुए था न उन्हें पाए हुए था