भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं मुब्तला-ए-इश्क़ हूँ मुझ को पता न था / बेगम रज़िया हलीम जंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं मुब्तला-ए-इश्क़ हूँ मुझ को पता न था
जब तक किसी ने हाल ये मेरा कहा न था

पाया है जब से तुझ को है तकमील का सुरूर
मैं थी अधूरी तू मुझे जब तक मिला न था

अल्लाह तेरे इश्क़ में हूँ हाल से बे-हाल
तब तक बड़े मज़े में थी जब तक दिल लगा न था