भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं वही दर्पण वही ना जाने ये क्या हो गया / रविन्द्र जैन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं वही दर्पण वही, ना जाने ये क्या हो गया
कि सब कुछ लागे नया नया

इक जादू की छड़ी, तन मन पे पड़ी
मैं जहाँ की रे गई वहीं पे खड़ी
घर वही, आँगन वही, ना जाने ...

कहीं दूर पपीहा बोले पिया पिया
उड़ जाने को बेकल है मोर जिया
दिल वही धड़कन वही, ना जाने ...