भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैं हूँ जोकर / श्रीप्रसाद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बोली हँसकर, मत यों रोकर
मैं हूँ जोकर
चुहिया लाओ बिल्ली आई है
मुँह धोकर
लेकिन तुम तो दस बजे उठे हो
अब सोकर
अब शाला जाओ तीन-तीन
घंटे खोकर
बोलो हँसकर, मत यों रोकर
मैं हूँ जोकर

गदहे ने अपना गाना गाया
खुश होकर
तो कोयल बोली, बुद्धि कहाँ
रक्खी ढोकर
मर गया शेर, खाकर के
बकरे की ठोकर

बोलो हँसकर, मत यों रोकर
मैं हूँ जोकर।