भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैदान / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जहाँ तुम खड़े हो
वहीं से शुरू होता है एक हरा मैदान
यात्रा के लिए आमंत्रित करता हुआ ।

उसकी सीमा कहाँ है
सवाल बेमानी है
चलते-चलते
जहाँ पहुँच कर तुम रुक जाते हो
और मुड़कर पीछे देखते हो
वहीं ठहर जाता है मैदान ।

यानी, तुम्हीं से शुरू
और तुम्हीं पर ख़त्म हो जाता है मैदान ।