भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैने स्वयं को / राखी सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सांत्वना दिया
अच्छा था
हमारे बीच 'कुछ नहीं था'

कुछ न होकर
सबकुछ होने का योग साधा है मैने

कुछ न होने के नष्ट होने की पीड़ा
सबकुछ नष्ट होने की पीड़ा से
तनिक भी कम नहीं हुई।