भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मैया तेरे लाला को लागी नजरिया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

मैया तेरे लाला को लागी नजरिया
माथे पे चंदा इनके बना दो,
मोहन माला गले पहना दो
डालो गले में पुतरिया, इन्हें लागी नजरिया। मैया...
रेशम का धागा कमर पहिरा दो
मोरो के पंखों की झालर लगा दो
जाने न दो इन्हें कोऊ की बाखरिया। मैया...
सोने की थाली में दीपक उजारो
मेवा सुपाड़ी नारियल धारो
सूनो न छोड़ो इन्हें अपनी सजेरिया। मैया...