भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

मौसम बहुत है सर्द जलाने को कुछ मिले / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौसम बहुत है सर्द जलाने को कुछ मिले
जी चाहता है आग लगाने को कुछ मिले

पहले कहा था काम चलाने को कुछ मिले
अब चाहते हैं ब्याज़ चुकाने को कुछ मिले

जाने हमारे बीच से क्या चीज़ खो गई
लगता है साथ वक़्त बिताने को कुछ मिले

रोज़ा समझ के काट दिया दिन पहाड़-सा
अब शाम में तो प्यास बुझाने को कुछ मिले

ऐसी जगह 'नदीम' न टिक पाएँगे जहाँ
पीने को कुछ मिले न पिलाने को को कुछ मिले

आती नहीं है रास किसी को भी मुफ़लिसी
रिश्ते भी चाहते हैं कमाने को कुछ मिले