भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारा संत सुजान / निमाड़ी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

    म्हारा संत सुजान
    ध्यान लग्यो न गुरु ज्ञान सी

(१) ज्ञान की माला फेर जोगी,
    आरे बंद में धुणी तो रमावे
    जोगी की झोली जड़ाव की
    मोती माणक भरीया...
    ध्यान लग्यो...

(२) बड़े-बड़े भवर गुफा में,
    आरे जोगी धुणी तो रमावे
    जेका रे आंगणा म तुलसी
    जेकी माला हो फेर...
    ध्यान लग्यो...

(३) चंदन घीस्या रे अटपटा,
    आरे तिलक लीया लगाई
    मोदक भोग लगावीया
    साधु एक जगा बैठा...
    ध्यान लग्यो...

(४) कई ऋषि मुनी तप करे,
    आरे इना पहाड़ो का माही
    अब रे साधु वहा से चल बसे
    गया गुरुजी का पास...
    ध्यान लग्यो...

(५) गंगा जमुना सरस्वती,
    आरे बहे रेवा रे माय
    जीनका रे नीरमळ नीर हैं
    साधु नीत उठ न्हाये...
    ध्यान लग्यो...