भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

म्हारी म्हैं जाणूं / पारस अरोड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अचाणचक
पोल व्हेगी
पगां हेटली जमीं
पग, गोड़ां लग
जमीं में धंसग्या,
आखती-पाखती ऊभा
लोगां नै पुकारिया,
अचरज
     कै वै सगळा
माटी री मूरतां में बदळग्या, माटी में धंसग्या
स्यात
     कोई रौ स्राप फळग्यौ व्हैला
लाखां रा लोग
     कोडियां रा व्हेगा !

म्हैं धरती रै कांधै धर हाथ
आयग्यौ बारै
अबै वै
गळै तांई धस्योड़ा लोग
बुला रैया है म्हनै ।

म्हारा दोय हाथां में सूं
एक म्हारौ है
दूजौ सूंपूं हूं वांनै
आ जाणता थकां ईं
     कै बारै आय’र नै
औ इज हाथ
काटण में लागैला,
पण वांरी वै जाणै
म्हारी म्हैं जाणूं ।