भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह इंसान बनने का समय है / सीमा संगसार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी पुतलियों को फैलाकर
सिकोड़ लेती है
बजबजाती भूख से
अतृप्त इच्छाओं को...
खैरात में मिले उन टुकड़ों को
चबा–चबा कर खाती हैं
ताकि देर तलक
बजती रहे
चपर चपर की आवाज़
और / उसकी गंध को भारती रहे वह
अपनी नथुनों में!
जब इंसान चुक जाता है
अपनी संप्रेषणीयता बनाने में
पशु की आँखें बोल पड़ती है...
यह इंसान की आखिरी अवस्था है
जब इंसानियत
पशुता की भेंट चढ़ जाती है
और / पशु इन्सान बनने लगता है!
यह इंसान का / पशुता की शक्ल में
इंसान बनने का समय है...