भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह चाँद जिधर से आता है / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह चाँद जिधर से आता है-
उस ओर कहीं पर अंगूरी रस का सागर लहराता है,
यह चाँद जिधर से आता है-

चलता सब कुछ उस अवनी में,
मृदु-मृदु, हौले-हौले, धीमे,
छाया-वन में ज्यों तितली-दल रेशम के पट फहराता है!
यह चाँद जिधर से आता है-

छमछम करती हैं अप्सरियाँ
मंजीर बजातीं, किन्नरियाँ;
गातीं नवला हिम-कन्याएँ, शशि हीरक-चूर उड़ाता है!
यह चाँद जिधर से आता है-

झरते बन उनके श्रम-सीकर;
कलियों में मधु, हिमकण केसर,

चम्पकवर्णी उनकी काया,
नीलम की आभा-सी छाया;
कुन्तल में भादों की निशि का अँधियारा नहीं समाता है!
यह चाँद जिधर से आता है-

जो मदिरा वहाँ ढुलकती है-
ऊषा बन यहाँ छलकती है!
प्राणों में जिसको संचित कर, कवि गाता रस बरसाता है!
यह चाँद जिधर से आता है-

जो पात वहाँ पर झड़ते हैं-
सपने वन यहाँ उतरते हैं!
यह मेरा रूप-चितेरा मन, जिनसे छवि-चित्र बनाता है!

यह चाँद जिधर से आता है-
उस ओर कहीं पर अंगूरी रस का सागर लहराता है!