भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यह यात्रा लंबी है / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यह यात्रा लंबी है
   थके डाँड / टूटे मस्तूलों की
 
   पानी की विपदा है
   पोत ये पुराने हैं
   लहरों के छल सारे
   जाने-पहचाने हैं
 
   मन में पछतावे हैं
 गिनती है भूलों की
 
   वही-वही टापू हैं
   उजड़े-वीरान-जले
   रिश्तों के अंतरीप
   कटे-कटे तट पगले
 
   बाकी कुछ गूँजें हैं
पिछले महसूलों की
 
   पत्थर के चेहरे हैं
   तने-हुए भाले हैं
   हत्यारे हाथों में
   मोम की मशालें हैं
 
बासी अख़बारों में
  खबरें हैं फूलों की