भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

याद न कर मन, प्रीत पुरानी! / रामेश्वरलाल खंडेलवाल 'तरुण'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

याद न कर मन, प्रीत पुरानी!
खुल जायेंगे घाव गुलाबी, बह जायेगा उर का पानी!
याद न कर मन, प्रीत पुरानी!
डूब गया रवि जा अस्ताचल-
बरसा रिमझिम कंचन का जल,
मन की प्राची में लाली की धुँधली-सी रह गई निशानी!
याद न कर मन, प्रीत पुरानी!

वे मधु के दिन कब के बीते-
लौटे मेघ, बरस, हो रीते!
खेत पक चुके अब गीतों के, सावन से कया आनी-जानी!
याद न कर मन, प्रीत पुरानी!

मन, वे दिन सोने-से अपने-
आज हुए नीलम के सपने!
भूलो रजत-स्वप्न की रातें; वे बातें हो गईं कहानी!
याद न कर मन, प्रीत पुरानी!

खुल जायेंगे घाव गुलाबी, बह जायेगा उर का पानी!
याद न कर मन, प्रीत पुरानी!