भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

यार देहलीज छूकर न जाया करो / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यार देहलीज छूकर न जाया करो ।
तुम कभी दोस्‍त बन कर भी आया करो ।

क्‍या जरूरी है सुख-दुख में ही बात करो ।
जब कभी फोन यों ही लगाया करो ।

बीते आवारा दिन याद करके कभी ।
अपने ठीये पे चक्‍कर लगाया करो ।

वक्‍त की रेत मुट्ठी में कभी रूकती नहीं ।
इसलिए कुछ हरे पल चुराया करो ।

हमने गुमटी पे कल चाय पी थी 'विजय' ।
तुम भी आकर के मजमे लगाया करो ।