भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये कौल तेरा याद है साक़ी - ए - दौराँ / फ़िराक़ गोरखपुरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


ये कौल तेरा याद है साक़ी-ए-दौराँ
अंगूर के इक बीच में सौ मयकदे पिनहाँ।

अँगड़ाइयाँ सुब्‍हों की सरे-आरिज़े-ताबाँ[1]
वो करवटे शामों की, सरे-काकुले-पेचाँ।

सद-मेह्‌र दरख़्‍शिन्दा[2], चराग़े-तहे-दामाँ।
सरता-ब-क़दम तू शफ़क़िस्ताँ-शफ़क़िस्ताँ।

पैकर ये लहकता है कि गुलज़ारे-इरम है
हर अज़्व चहकता है कि है सौते-हज़ाराँ।

ज़ीरो-बमे-सीने[3] में वो मौसूक़ी-ए-बेसौत[4]
ये पंखड़ी होठों की है गुल्ज़ार बदामाँ।

ये मौजे - तबस्सुम हैं कि पिघले हुये कौंदे
शबनम-ज़दा ग़ुंचे’ लबे-लाली से पशेमाँ।

इन पुतलियों में जैसे हिरन मायले-रम हों
वहशत भरी आँखें हैं कि दश्ते-ग़िज़ालाँ।

हर अज़्वे-बदन जाम-बकफ़ है दमे-रफ़्तार
इक सर्वे चरागाँ नज़र आता है ख़रामाँ।

इक आलमे-शबताब है, बल खायी लटों में
रातों का कोई बन है कि है काकुले - पेचाँ।

तू साज़े-गुनह का है कोई परदा-ए-रंगीं
तू सोज़े-गुनह का है कोई, शोला-ए-रक़्साँ[5]

लहराई हुई ज़ुल्फ़, शिकन-ज़ेर-शिकन में
सौ पहलुओं से आलमें - जुल्मात में ग़लता।

अशआर मेरे तरसी हुई आँखों के कुछ खाब
हूँ सुब्‍हे - अज़ल से तेरे दीदार का ख़ाहाँ[6]

है दारो-मदार अह्‌ले-ज़माना का तुझी पर
तू क़त्बे-जहाँ, क़िबला-ए-दीं, काबा-ए-ईमाँ।

हम रिन्द हैं, वाक़िफ़े-असरारे-ज़माना[7]
सीने में हमारे भी अमीने - ग़मे - दौराँ।

आँखों में नेहाँख़ाने हक़ीक़त के है महफ़ूज़
दुनाया-मजाज़ एक तवज्जुह की है ख़ाहाँ।

मस्ती में भी किस दर्जा है मुहतात[8] अदाएँ
इक नीम-निगह रौशनी-ए-महफ़िले-रिन्दाँ।

परदा दरे-असरारे- नेहाँन नर्म निगाहें
नब्बाज़े-ग़मे-अह्रमानो-मरज़ी-ए-यज़दाँ।

कामत[9] है कि कुहसार[10] प चढ़ता हुआ दिन है
जोबन है कि है चश्मा-ए-ख़ुर्शीद में तूफ़ाँ।

साँचे में ढले शेर हैं, या अज़्वे-बदब के
ये फ़िक्र नुमा जिस्म, सरासर ग़ज़लिस्ताँ।

हर जुंबिशे-आज़ा[11] में छलक जाते हैं सद जाम
हर गरदिसे-दीदा में कई गरदिसे-दौराँ।

ख़मयाज़ा-ए-पैकर में चटक जाते है गुंचें
रंगीनी-ए-क़ामत चमनिस्ताँ-चमनिस्ताँ।

हैं जलवादहे - बज़्म पसीने के ये क़तरे
जिस्मे-अरकआलूद से महफ़िल है चरागाँ।

अब गरदने-मीना भी है शाइसता - ए- जुन्नार[12]
ज़रकारी - ए- ख़मदार से है साफ नुमायाँ।

इक शोला-ए-बेदूद है, या क़ुलक़ुले-मीना
ये नग़्मा है रोशन - कुने - तारीकी-ए-दौराँ।

साग़र की खनक, दर्द में डूबी हुई आवाज़
इस दौरे-तरक़्क़ी में दुखी है बहुत इंसाँ।

आतशकदा-ए-ग़ैब से ले आये हैं ये लोग
पहलू में हमारे हैं दिले-शोला-बदामाँ।

मयख़ाना भी है ग़मकदा-ए-ज़ीस्त की[13] तस्वीर
नमदीदा[14] हैं पैमाने, प्याले दिले-सोज़ाँ।

क्या होने को है कारगहे-दह्‌र में साकी!
जिस सम्त नज़र जाये, कयामत के हैं सामाँ।

कब होगी हुवेदा[15] उफ़ुक़े-ख़ुम से नई सुब्‍ह
शीशे में छलकता तो है मुस्तक़बिले इन्साँ।

इस बादा-ए-सरजोश से उठती हैं जो मौजें
हैं आलमे-असरार की वो सिलसिला-जुंबाँ।

ये जिस्म है कि कृष्न की बंशी की कोई टेर
बल खाया हुआ रूप है या शोला-ए-पेचाँ।

सद मेहरो-क़मर[16], इसमें झलक जाते हैं साक़ी!
इक बूँद मये-नाब में सद आलमें इमकाँ।

मय जोशी-ए-सहबा में धड़कता है दिले-जाम
साग़र में हैं मौजे कि फड़कती है रगे-जाँ।

साक़ी तेरी आमद की बशारत है शबे-माह
निकला वो नसीबों को जगाता शबे-ताबाँ।

जामे-मये रंगी है कि ग़ुलहाये-शुगुफ़्ता
मयख़ाने की ये रात है जो सुब्‍हे-गुलिस्ताँ।

पूछे न हमें तू ही तो हम लोग कहाँ जायें
ऐ साक़ी-ए-दौराँ अरे ऐ साक़ी-ए-दौराँ।

साक़ी ये तेरा क़ौल[17] हमें याद रहेगा
आरास्ता जिस वक़्त हुई महफ़िले-रिंदाँ।

बस फ़ुरसते-यक-लमहा है रिन्दों कि है उतरा
इस लम्हा अबद का तहे-नुह-गुम्बदे-दौराँ।

बरहक़[18] है ’फ़िराक़’ अहले-तरीक़त का ये कहना
ये मये-ग़मे-दुनिया को बना दे गमें-जानाँ।

शब्दार्थ
  1. चमकते गालों पर
  2. चमकते
  3. सीना का उठना बैठना
  4. बिना आवाज़ का संगीत
  5. नाचती लव
  6. इच्छुक
  7. समय के रहस्य से परिचित
  8. सतर्क
  9. लम्बाई
  10. पहाड़ी
  11. अंगों के हिलने
  12. जनेव का अनुशासन
  13. जीवन की दुखशाला
  14. गीला
  15. उत्पन्न
  16. चाँद-सूरज
  17. वचन
  18. सत्य

--अमित ०३:२३, ९ अक्तूबर २००९ (UTC)