भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये मेरे यार ने क्या मुझसे बेवफ़ाई की / रंगीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये मेरे यार ने क्या मुझ से बेवफ़ाई की,
मिले न फिर कभी जिस दिन से आश्नाई की ।

अब उस के इश्क़ ने क्या कम किया था मुझ से सुलूक,
सताया तू ने ख़ुदा हत तिरी ख़ुदाई की ।

मैं तेरे वारी नसीहत न कर मुझे बाजी,
तुझे भी याद है बकवास सब ख़ुदाई की ।

फँसा दिया मुझे ’रंगी’ के दाम में नाहक़,
करे इलाही कटे नाक मेरे दाई की ।