भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ये रिश्ता हर सफ़र हर मोड़ पर हर बार मिलता है / ओम प्रकाश नदीम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ये रिश्ता हर सफ़र हर मोड़ पर हर बार मिलता है ।
तुम्हारी हर कहानी में मेरा किरदार मिलता है ।

मेरी कमज़ोर हालत का असर सब पर हुआ कैसे,
मैं जिसके पास जाता हूँ वही बीमार मिलता है ।

नई क़लमी तिजारत का ये फल हासिल हमको,
कि हर मौसम में अब हर फल सरे बाज़ार मिलता है ।

कम अज़ कम आज तो आवारगी की छुट्टी कर देते,
बड़ी मुश्किल से हफ़्ते भर में इक इतवार मिलता है ।

हवा के रुख़ बदलने की ख़बर उड़ने से पहले ही,
वो अपना रुख़ बदलने के लिए तैयार मिलता है ।