भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

योजनाओं का शहर-3 / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो दुनियादार थे वे योजनाकार थे
जो समझदार थे वे योजनाकार थे
एक लड़का रोज़ एक लड़की को
गुलदस्ता भेंट करता था
उसकी योजना में
लड़की एक सीढ़ी थी
जिसके सहारे वह
उतर जाना चाहता था
दूसरी योजना में