भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

योजनाओं का शहर-7 / संजय कुंदन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

योजनाओं में हरियाली थी
धूप खिली थी, बह रहे थे मीठे झरने
एक दिन एक योजनाकार को
रास्ते में प्यास से तड़पता एक आदमी मिला
योजनाकार को दया आ गई
उसने झट उसके मुँह में एक योजना डाल दी