भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रंगु रुखं वक्त जो समुझाए वयो / एम. कमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रंगु रुखं वक्त जो समुझाए वयो।
चोरु चोरी करे धमकाए वयो॥

हू घणनि जो ई ख़ुदा थी पवन्दो।
जंहिं खां शैतानु भी शरमाए वयो॥

खोहे ॿीजल छॾी सुर जी अज़मत।
सिरु वठी साज़ खे शरमाए वयो॥

अॼु छो साराह कई हुन मुंहिंजी?!
हिक नईंअ सोच में उलझाए वयो॥

अर्ज़ ते मुंहिंजे हू चुप-चाप खिली।
माना जे झंग में भिटिकाए वयो॥

हू सॼो ॾोहु मूं मां ई कढी।
जख़म दिल जा उघी जरकाए वयो॥