भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रखे है रंग कुछ साक़ी शराब-ए-नाब आतिश का / 'ममनून' निज़ामुद्दीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रखे है रंग कुछ साक़ी शराब-ए-नाब आतिश का
मुक़त्तर क्या किया ले कर गुल-ए-शादाब आतिश का

मेरे ये गर्म आँसू पोंछ मत दस्त-ए-निगारीं से
कि उन आँखों से रहता है रवाँ सैलाब आतिश का

तह-ए-मिज़गाँ निहाँ रखते हैं हम लख़्त-ए-दिल-ए-सोज़ाँ
यहाँ ख़ाशाक़ में रखा है अख़गर दाब आतिश का

निगाह-ए-गर्म से उस की दिल-ए-बे-ताब रू-कश है
हरीफ़ आख़िर हुआ ये पारा-ए-सीमाब आतिश का

जो सैल-ए-अश्क ओ आह-ए-गर्म को टुक दीजिए रूख़्सत
निशाँ दरिया का गुम हो नाम नायाब आतिश का

शकेब ओ ताब ओ होश ओ सब्र सोज़-ए-ग़म से सब सुलगा
हुआ तोता ग़रज अपना तमाम अस्बाब आतिश का

अरक़ उस शोला-गूँ आरिज़ पे क्या सना-ए-इलाही है
नहीं देखा है हम ने रब्त बाहम आम आतिश का