भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

रघुबर राजकिशोरी महल बिच खेलत रे होरी / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रघुबर राजकिशोरी महल बिच खेलत रे होरी।
कर झटकत घूंघट पट खोलत,
मलत कपोलन रोरी। महल...
कंचन की पिचकारी घालत,
तक मारत उर ओरी। महल...
सोने के घड़न अतर अरगजा,
लै आईं सब गोरी। महल...
हिलमिल फाग परस्पर खेलत,
केसर रंग में बोरी। महल...
अपनी-अपनी घात तके दोऊ,
दाव करत बरजोरी। महल...
कंचन कुँअरि नृपत सुत हारे,
जीती जनक किशोरी। महल...