भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रतन / जब तुम ही चले परदेस

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रचनाकार: ??                 

जब तुम ही चले परदेस, लगा कर ठेस ओ प्रीतम प्यारा!
दुनिया में कौन हमारा?

जब बादल घिर-घिर आएंगे, बीते दिन याद दिलाएंगे।
फिर तुम्हीं कहो कित जाए, नसीबों का मारा?
दुनिया में कौन हमारा?

आँखों से पानी बहता है, दिल रो-रो कर यह कहता है।
जब तुम ही ने साजन, हम से किया किनारा।।
दुनिया में कौन हमारा?