भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रवानगी / आर्थर रैम्बो / मदन पाल सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बहुत देख ली जीवन छाया, उसकी दृष्टि
– कुछ भी अलग दिखा नहीं !

बहुत भोग लिया शहरी शोरगुल, साँझ, रोशनी और हमेशा
– पर सब कुछ सूना लगा यहीं !

खूब जान लिए निर्णय गहरे, मोड़ जीवन के,
मीठा भ्रम औ छली कामना
मैं भर पाया,

नई प्रीत और कोलाहल में
–चल मेरे मन अब और कहीं !

मूल फ़्रांसीसी भाषा से अनुवाद : मदन पाल सिंह