भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रवि प्रभा से लुप्त... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  रवि प्रभा से लुप्त...

रवि प्रभा से लुप्त शिर-मणि-प्रभा जिसकी फणिधर

लोल जिहव, अधिर मारुत पी रहा, आलीढ़

सूर्य्य ताप तपा हुआ विष अग्नि झुलसा आर्त्त कातर

त॓षाकुल मण्डूक कुल को मारता है अब न विषधर

प्रिये आया ग्रीष्म खरतर!