भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रश्मि जालों को बिछा... / कालिदास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: कालिदास  » संग्रह: ऋतुसंहार‍
»  रश्मि जालों को बिछा...
प्रिये ! आई शरद लो वर!

रश्मि जालों को बिछा

आल्हाद भरता जो हृदय हर

नयन उत्सव, हिम फुही झर

इंदु भी है अब कठिनतर

पति-विरह विष-सिक्त शर-क्षत

नारियों का ताप दुखकर
प्रिये ! आई शरद लो वर!