भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राक्षस / मोनिका कुमार / ज़्बीग्न्येव हेर्बेर्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बतौर राक्षस वह एकदम फ़ेल है।
यहाँ तक कि उसकी दुम भी फ़ेल है
क्यूँकि ना तो यह लम्बी है और ना ही गुदगुदी,
पिछवाड़े पर रोएँदार काले बाल तक नहीं
बल्कि उसकी दुम तो खरगोश की दुम जैसी
छोटी थुलथुली और हास्यास्पद ढंग से चिपकी हुई है।
चमड़ी उसकी गुलाबी है,
सिर्फ़ बाएँ कंधे के नीचे सोने के सिक्के के आकार जैसा निशान है।
सींग तो सबसे बदतर है।
ये दूसरे राक्षसों की बाहर को नहीं
बल्कि अन्दर दिमाग़ की तरफ उगते हैं।
इसीलिए उसे अक्सर सर-दर्द की शिकायत रहती है।

वह उदास है।
दिनों तक सोया रहता है।
अच्छी या बुरी कोई भी चीज़ उसे आकर्षित नहीं करती।
जब वह गली में चलता है
तो आपको उसके फेफड़ों के गुलाबी पंखों की
चहलक़दमी साफ़-साफ़ दिखाई देती है।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : मोनिका कुमार