भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजकोष की जूठन छोटी बड़ी किताबों में / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राजकोष की जूठन छोटी बड़ी किताबों में।
बादशाह छाए सिर के बल खड़ी किताबों में।

पोपट जानें या पोपट जैसे बच्चे जानें
बादशाह की सेना कैसे लड़ी किताबों में।

शाही दावत में जाने के अपने खतरे हैं
नमक करा सकता है धोखाधड़ी किताबों में।

भूत क़रार दिए जाएँगे क़िस्सों के बाहर
बादशाह अच्छे लगते हैं सड़ी किताबों में।

वैसी ही खादी के कुर्तों में भी मिलती है
देखी थी हमने जैसी हेकड़ी किताबों में।

महलों में महदूद मरी षहज़ादी की चिट्ठी
ढूँढो शायद अब भी होगी पड़ी किताबों में।

हमलावर के राजतिलक में तुम भी शामिल थे
तुमने ही तो खोजी थी षुभ घड़ी किताबों में।

सूरज से भी ज़्यादा गोरे ग्राहक आए हैं
बिक जाने की है कैसी हड़बड़ी किताबों में।

गोरे गालों के तिल या पूरे चांदों के दाग़
रखिए जब टूटे बातों की लड़ी किताबों में।

मेरे बच्चो, इन्हें अकंल की ऑखों से पढ़ना
अब भी रहती है जादू की छड़ी किताबों में।