भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजा-दशरथ जसो बाप / पँवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पँवारी लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

राजा-दशरथ जसो बाप
अन लक्षमन जसो भाई खऽ
छोड़ खऽ कहाँ चली गयो रे मऽरो लाल
भगवान तोनऽ असो काहे कर्यो रे
कोनसा जलम को बदला लिया रे भगवानजी
असो बेटा आब कहाँ सी लाहूँ रे भगवान
अखण्ड दऊड़-दऊड़ खऽ काम कर्यो ओ बाई
मऽरा बेटा नऽ... दो दिन पहले।
ऐखऽ का हो गयो रे मऽरा भगवान।