भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजा / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आता है कोई चतुर सुजान
राजा को ईश्वर का अवतार बता जाता है
आता है कोई नीतिज्ञ
और धर्म को राजा का छत्र बना जाता है
आता है कोई चारण और राजा के हाथ में
एक से एक चमत्कारी शस्त्रास्त्र थमा जाता है
और महाकवि जो राजशय्या पर अप्सराएँ लिटा जाता है

लोग चकित विस्मित भयभीत चीख़ते हैं
त्राहि माम् त्राहि माम् त्राहि माम्
जय हो जय हो जय हो

राजा बाहर आता है
जैसे कथाओं की म्यान से खिंचा कोई खड्ग
और अपनी चमक दिखाकर लौट जाता है

थोड़ा जादू तो चाहिए
प्रजा-भाव स्वयंभू नहीं
श्रद्धा अकारण नहीं !