भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राजेश श्रीवास्तव / परिचय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नाम

राजेश श्रीवास्तव

शिक्षा

  1. हिंदी और अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर डिग्री
  2. भारतीय विद्या भवन, नई दिल्ली से ज्योतिष अलंकार एवं ज्योतिषाचार्य (स्वर्णपदक)

सम्प्रति

केंद्र सरकार में राजपत्रित अधिकारी के रूप में कार्यरत

संपर्क

  • पता: 88D, पॉकेट D2, डीडीए फ्लैट्स, पुरानी कोंडली, मयूर विहार फेज-3, दिल्ली-110096
  • ईमेल: rajeshsrivastava108@gmail.com ; srivastavarajesh2001@yahoo.com
  • फ़ोन: 09891358585

प्रकाशित कृतियाँ

  1. कविता नहीं कुरुक्षेत्र (कविता-संग्रह/संपादन); वर्ष 1990
  2. अनुभूति से अभिव्यक्ति तक ((कविता-संग्रह/संपादन); वर्ष 1993
  3. बिखरे छंद जिंदगी के (नवगीत संग्रह); वर्ष 1994
  4. दसवें की राख (कहानी संग्रह); वर्ष 1997
  5. हिममानवों के देश में (फैंटेसी उपन्यास); वर्ष 1998
  6. मुँहबोली बहिन (सामाजिक उपन्यास); वर्ष 2000
  7. चार यार रोड (व्यंग्य उपन्यास); वर्ष 2001
  8. मेरी भारत यात्रा (धार्मिक यात्रा-संस्मरण); वर्ष 2007
  9. हिंदी अधिकारी का विदाई समारोह (व्यंग्य संग्रह); वर्ष 2007
  10. मेरे दीक्षा गुरु (मेरे अध्यात्मिक अनुभव); वर्ष 2007

इसके अलावा, कादम्बिनी, सरिता, मधुमती (राजस्थान साहित्य अकादमी), बाल भारती, राजभाषा भारती, आजकल, विश्व हिंदी दर्शन जैसी अनेक राष्ट्रीय स्तर की पत्रिकाओं और दैनिक विश्वामित्र, नवभारत टाइम्स, पंजाब केसरी जैसे तमाम प्रतिष्ठित समाचारपत्रों में कहानियों, ग़ज़लों, कविताओं, नवगीतों, लेखों सहित सैंकड़ों रचनाएं प्रकाशित।

पुरस्कार

  1. हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा वर्ष 1991 से 1995 तक लगातार चार वर्ष कहानी और कविताओं के लिए “नवोदित लेखक पुरस्कार‘’। पुरस्कृत रचनाएं अकादमी के विशेषांकों में प्रकाशित।
  2. अखिल भारतीय साहित्य संगम पुरस्कार, बोकारो- वर्ष 1996 में नवगीत संग्रह“बिखरे छंद जिंदगी” के लिए।
  3. अखिल भारतीय राहुल सांकृत्यायन पुरस्कार, वर्ष 2007 यात्रा संस्मरण-“मेरी भारत यात्रा” के लिए।

अन्य उपलब्धियाँ

  1. दिल्ली से प्रकाशित होने वाली पत्रिका “दिग्विजय” के साहित्य संपादक के रूप में 1997 से 1999 तक कार्य किया।
  2. गायत्री सिद्धपीठ, खड़ेसर, जिला कानपुर से प्रकाशित होने वाली त्रैमासिक अध्यात्मिक पत्रिका का वर्ष 2004 से आज तक नियमित अवैतनिक संपादन।