भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात-भर हम / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात-भर हम
रहे सूरज के भरोसे
सुबह तो वह आयेगा ही

पर सुबह ने ठगी की
वह धुंध ओढ़े हुए आई
बावरे आकाश ने भी
बर्फ की चादर बिछाई

और हम
बैठे रहे इस बात में ही
धूप का देवा कभी मुस्काएगा ही

ओस की बूँदें जमी हैं
पत्तियों पर
घास पर भी
रहा गुमसुम-मौन जंगल

और सूना देवघर भी
सोचते हम -
गाँव का बूढ़ा भिखारी

अभी कबिरा का भजन तो गाएगा ही
घोसले में दुबककर
बैठा हुआ है सगुनपाखी
नदी भी थिर दे रही

अंधे समय की मूक साखी
याद आई
दुआ हमको पूर्वजों की
कभी तो यह समय भी कट जाएगा ही