भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात अपनी स्याहियों से धो गयी है / विनय कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात अपनी स्याहियों से धो गयी है।
खाल पत्थर की मुनव्वर हो गयी है।

घाटियों में दूर तक मुर्दा उजाला
बर्फ है या ओस थककर सो गयी है।

वक़्त का बर्ताव क्यों दुष्यंत सा है
क्या तुम्हारी भी अंगूठी खो गयी है।

अब उन्हें दुनिया बहुत कम दिख रही है
उम्र की दीवार ऊँची हो गयी है।