भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात को हो, दोपहर में हो / रामश्याम 'हसीन'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात में हो, दोपहर में हो
घर की बात है घर में हो

मंज़िल तक कैसे पहुँचें
चर्चा यही सफ़र में हो

करो फ़ैसला कुछ भी तुम
जो भी हो पल भर में हो

चाहे जहाँ रहो प्यारे!
हरदम मेरी नज़र में हो

शाइर उसको ही कहिए
जिसका शे' र बहर में हो