भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात जस्तो केश / सुमन पोखरेल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
रातजस्तो केश त्यो जूनजस्तो मुहार
कति सुन्दर कति राम्रो मुस्कानको जुहार

वर्णन गरी सक्नु छैन सौन्दर्य छ हजार
तर केही कम भएझैँ चन्दनजस्तो निधार
लगाइदिऊँ कि टीका सिन्दुर बनिदिउँ कि शृङ्गार
रातजस्तो केश त्यो जून जस्तो मुहार

कताकता घुमाउँछ्यौ लोलाएका नजर
रहर साँची ओइलिजालान् फूलजस्ता अधर
चुमिदिऊँ कि एकपल्ट लगाई दिऊँ कि रहर
रातजस्तो केश त्यो जूनजस्तो मुहार