भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात पाली / कुमार सुरेश

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर ओर क्षितिज कि सड़क
गाढ़े कोलतार से ढँक जाती है
चलना दुश्वार हो जाता है
सारे मतभेद अस्तित्व खो देते हैं
दिमाग गहरे नशे में डूब जाते हैं
तब आनेवाली सुबह कि सजावट के लिए
मैं काली रात में घर से निकलता हूँ

इन घंटों में मन में अजीब सा
चैन फैल जाता है
संसार अपनी सीमाएं सिकोड़ लेता है
और जितनी छोटी सीमाएं होती हैं
उतना ही गहरा सुकून
इसलिए काम के अलावा कोई धुन
परेशान नहीं कर पाती

सुबह के तीन और चार के बीच
नींद सहनशक्ति को चुनौती देती है
तब सड़कों का गोरखा चौकीदार भी
हार मान जाता है
लेकिन मैं हार नहीं मानता
खेलता हूँ पूरा दांव

अलसुबह सूरज नई सुबह लिए
घर लौटता है
मैं घर लौटता हूँ
बदन में शाम लिए
मेरी चेतना पर अँधेरा घिर आता है
सूरज कि रोशनी से सराबोर कोलाहल के बीच
जब मैं सो जाता हूँ
अक्सर रात कि सुहानी नींदों का ख्वाब
देखता हूँ।