भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रात रोते हुए कटी यारो / विनोद तिवारी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


रात रोते हुए कटी यारो
अब भी दुखती है कनपटी यारो

हमने यूँ ज़िंदगी को ओढ़ा है
जैसे चादर फटी-फटी यारो

शक की बुनियाद पर टिका है शहर
दोस्त करते हैं गलकटी यारो

भूख में कल्पना भी होती है
फ़ाख़्ता एक परकटी यारो

किससे मजबूरियाँ बयान करें
जीभ तालू से जा सटी यारो

चुप्पियों की वजह बताएँगे
वक़्त से गर कभी पटी यारो