भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम नाम अमृत है, पीकर भक्त अमर भये / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम नाम अमृत है, पीकर भक्त अमर भये,
धन्य धन्य जनम तांको, बहुत ही सरानो है।
प्रीत राम नाम से, जीत्यो मन जीत लियो,
राम नाम जपो भक्त, राम को कहानो है।
झंझट जग जाल मिटे, राम नाम लेने से,
ममता और माया व्यर्थ, मन को लुभानो है।
कहता शिवदीन, दीनबन्धु भज राम राम,
जीवन सुधार फेर आनो है न जानो है।