भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम नाम की ओट लिये, करते छल, छलियां / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

राम नाम की ओट लिये, करते छल, छलियां,
तिलक छाप की ओट लिये फिरते दिल जलियां।
देते है ताबीज दुनी को ठगते रहते,
मनमाने यह दुष्ट हमेशा बकते रहते।
जटा जूट शिर पर बढ़ा बने सिद्ध महाराज,
शिवदीन इन्हे आती नहीं तनिक जरासी लाज।
राम गुण गायरे।