भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

राम / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


लबरेज़ है शराबे-हक़ीक़त से जामे-हिन्द[1]

सब फ़ल्सफ़ी हैं खित्ता-ए-मग़रिब के रामे हिन्द[2]

ये हिन्दियों के फिक्रे-फ़लक[3] उसका है असर,

रिफ़अत[4] में आस्माँ से भी ऊँचा है बामे-हिन्द[5]

इस देश में हुए हैं हज़ारों मलक[6] सरिश्त[7] ,

मशहूर जिसके दम से है दुनिया में नामे-हिन्द

है राम के वजूद[8] पे हिन्दोस्ताँ को नाज़,

अहले-नज़र समझते हैं उसको इमामे-हिन्द

एजाज़ [9] इस चिराग़े-हिदायत[10] , का है यही

रोशन तिराज़ सहर[11] ज़माने में शामे-हिन्द

तलवार का धनी था, शुजाअत[12] में फ़र्द[13] था,

पाकीज़गी[14] में, जोशे-मुहब्बत में फ़र्द था

शब्दार्थ
  1. हिन्द का प्याला सत्य की मदिरा से छलक रहा है
  2. पूरब के महान चिंतक हिन्द के राम हैं
  3. महान चिंतन
  4. ऊँचाई
  5. हिन्दी का गौरव या ज्ञान
  6. देवता
  7. ऊँचे आसन पर
  8. अस्तित्व
  9. चमत्कार
  10. ज्ञान का दीपक
  11. भरपूर रोशनी वाला सवेरा
  12. वीरता
  13. एकमात्र
  14. पवित्रता