भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रुपगर्विता / रामकृष्ण वर्मा 'बलवीर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

फुलिहें अनरवा सेमर कचनरवा पलसवा गुलबवा अनन्त।
बिरहा विरवा लगायो ‘बलविरवा’ सो फुलिहें जो आयो हैं बसंत।।
रजवा करत मोर रजवा मथुरवा में हमस ब भइलीं फकीर।
हमरी पिरितिया निबाहे कैसे ऊघो,’बलबिरवा’ की जतिया अहीर।।