भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रूह को राह-ए-अदम में मेरा तन याद / 'अमानत' लखनवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रूह को राह-ए-अदम में मेरा तन याद आया
दश्त-ए-ग़ुर्बत में मुसाफ़िर को वतन याद आया

चुटकियाँ दिल में मेरे लेने लगा नाख़ुन-ए-इश्क़
गुल-बदन देख के उस गुल का बदन याद आया

वहम ही वहम में अपनी हुई औक़ात बसर
कमर-ए-यार को भूले तो दहन याद आया

बर्ग-ए-गुल देख के आँखों में तेरे फिर गए लब
ग़ुंचा चटका तो मुझे लुत्फ़-ए-सुख़न याद आया

दर-ब-दर फिर के दिला घर की हमें क़दर हुई
राह-ए-ग़ुर्बत में जो भूले तो वतन याद आया

आह क्यूँ खींच के आँखों में भर आए आँसू
क्या क़फ़स में तुझे ऐ मुर्ग़-ए-चमन याद आया

फिर अमानत मेरा दिल भूल गया ऐश ओ तरब
फिर मुझे रौज़ा-ए-सुलतान-ए-ज़मन याद आया