भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रॉकेट एक चलाऊँगा मैं / प्रकाश मनु

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रॉकेट एक चलाऊँ मैं,
अंबर तक उड़ जाऊँगा मैं।
तारेां को छूँ आऊँगा मैं,
सबसे हाथ मिलाऊँगा मैं।
कैसे अपने चंदा मामा,
कैसी उनकी घोड़ी श्यामा!
बैठ उसी पर आसमान में,
दिखलाते हैं हर पल ड्रामा।

सूरज दादा हैं गुस्सैल,
उनके साठ हजार बैल।
उनसे खेती करवाते हैं,
ना हँसते, ना मुसकाते हैं।
आऊँगा जब उड़कर नीचे
किस्से खूब सुनाऊँगा मैं,
रॉकेट एक चलाऊँगा मैं!