भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोज़ कथा सपनों की / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज़
कथा सपनों की चलती है
रात-भर
 
कभी किसी टापू पर
भीगे दिन मिलते हैं
और कभी सूरज के
नये पंख हिलते हैं
 
एक
नयी खुशबू तब पलती है
  रात-भर
 
मुँह-ढाँपे आकृतियाँ
आती हैं-जाती हैं
गुंबज के नीचे वे
शोकगीत गाती हैं
 
नदी-पार
एक चिता जलती है
  रात-भर
 
भीड़-भरी सडकों पर
यात्राएँ होती हैं
या लहरें
सूने आकाशों को धोती हैं
 
पहचानें
अनजाने ढलती हैं
रात-भर