भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

रोज़ कहते थे कभी ग़ैर के घर देख लिया / लाला माधव राम 'जौहर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोज़ कहते थे कभी ग़ैर के घर देख लिया
आज तो आँख से ऐ रश्क़-ए-क़मर देख लिया

काबा-ए-दिल से मिल मंज़िल-ए-मक़सूद की राह
यार का हम ने उसी कूचे में घर देख लिया

जानिब-ए-ग़ैर इशारा जो हुआ जानते हैं
हम ने ख़ुद आँख से देखा के इधर देख लिया

कौन सोता है किसी हिज्र में नींद आती है
ख़्वाब में किस ने तुम्हें एक नज़र देख लिया

जब कहा मैं ने नहीं कोई चलो मेरे घर
खूब रस्ते में इधर और उधर देख लिया

बोले चलने में नहीं उज्र मुझे कुछ लेकिन
ख़ौफ़ ये है किसी मुफ़सिद ने अगर देख लिया

आहों से आग लगा देंगे दिल-ए-दुश्मन में
छुप के रहते हैं जहाँ आप का घर देख लिया

बच गया नक़्द-ए-दिल अब के तो नज़र से उस की
आएगा फिर भी अगर चोर ने घर देख लिया