भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

रोयो विहाणी राति पुंहल तो लाइ / लीला मामताणी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रोयो विहाणी राति पुंहल तो लाइ
रोयो विहाणी राति...

सवें मिलनि था मूंखे महिणा
वाई अथमि तुंहिंजी वाति-पुंहल तो लाइ

जहिड़ी तहिड़ी तुंहिंजी आहियां
ॿी न अथमि काई तात-पुंहल तो लाइ

सिकां सारियां पंधि पुछां पई
पिरह फुटीप्रभात-पुंहल तो लाइ

होत अचजि मूंवटि हिकवारी
लिंव लिंव तुंहिंजी लाति-पुंहल तो लाइ

ॾाणु मिठा हाणे ॾे तूं सिकीअ खे
पुछु न ‘निमाणी’ जी ज़ाति-पुंहल तो लाइ

रोयो विहाणे राति पुंहल तो लाइ...