भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

र / अय्यप्प पणिक्कर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बरररसात
बरसात जैसे
रिम झिम झिम झिम

नहर जैसे
हर हर हरा हर

कीड़े जैसे
कुर्र कुर्र कुर्र्रू रु रु रु

सड़क जैसे
सर्रर्र सररर सरा

बरसती है
बहती है
रेंगती है
सरकती है
खूबसूरत जैसे...
हिन्दी में अनुवाद :रति सक्सेना